कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

जीवन से लुप्त दयानत है (ग़ज़ल)

जीवन से लुप्त दयानत है,
उपदा पाने की उज्लत है।

कितनी बार उन्हें समझाया,
पर उनकी भद्दी आदत है।

हथियारों की होड़ लगी है,
कैसा मधुमास क़यामत है।

जीवन का संचार करेगी,
ईश्वर की ख़ूब इबादत है।

अँधियारा झुग्गी के हिस्से,
रूठ गई उसकी क़िस्मत है।

धज्जी उड़ती है नियमों की,
ऐसों की आज मलामत है।


अविनाश ब्यौहार
सृजन तिथि : 19 अप्रैल, 2022
अरकान : फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
तक़ती : 22 22 22 22
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें