कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

एक तुम जो छेड़ दो (गीत) Editior's Choice

एक तुम जो छेड़ दो
हज़ारों तरंगे उत्पन्न हो जाए ह्रदयतल में,
तुम जो करो निगहबानी
शत् शत् कमल दल खिले अन्त:तल में,
अपने आने की ख़बर दे दो
शत् शत् दीप जले जीवन पथ में,
राहों के शूल, फूल बने
सुवासित हो जीवन के पग पग में।
एक तुम जो छेड़ दो...

एक तुम जो छेड़ दो
हज़ारों तार हृदय के बज उठेंगे,
तरन्नुम, गीत, ग़ज़ल सब
साज सहित क़दम थिरक उठेंगे,
बजा दो बाँसुरी प्रेम की 'प्रिये'
मौन शब्द प्रेम कै बोल उठेंगे
पंखुड़ियाँ प्रेम की अधरों पर खिलकर
बातों की परतें खोल उठेंगे।
एक तुम जो छेड़ दो...


कमला वेदी
सृजन तिथि : 2021
स्रोत :
पुस्तक: मुझे वो दीप बना दो (काव्य संग्रह)
पृष्ठ संख्या: 36
प्रकाशन: समय साक्ष्य प्रकाशन
संस्करण: 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें