कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

यूँ न खेला करो दिल के जज़्बात से (ग़ज़ल)

यूँ न खेला करो दिल के जज़्बात से।
ज़िन्दगी थक गई ऐसे हालात से।।

रोज़ मिलते रहे सिर्फ़ मिलते रहे,
अब तो जी भर गया इस मुलाक़ात से।

ख़्वाब में आता हँसता लिपटता सनम,
हो गई आशनाई हमें रात से।

गा रहा था ये दिल हँस रही थी नज़र,
क्या पता आँख भर आई किस बात से।

इल्म और फ़न को अब पूछता कौन है,
पूछे जाते यहाँ लोग औक़ात से।


सतीश मापतपुरी
सृजन तिथि : 1975
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें