कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

यही सच है (कविता)

यही सच है, कि-
ज़िन्दगी है
तो मौत भी होगी।
फिर,
मौत से डरना कैसा?
बावजूद, हमने देखा है
हर शख़्स को ताकते हुए
दूर कहीं शून्य में।
जीवन के
इस आपाधापी में
मौत को
पल-पल जीते हुए।
यह भी सच है
ज़िन्दगी और मौत के बीच
क्रॉस पर लटका
हर इंसान
ईषा नहीं होता। क्योंकि-
ज़िन्दगी!
सूर्ख लाल अंगारे की तरह बिखरा पड़ा मिलता है
मौत की क्षितिज पर
जहाँ आत्माएँ
ठंडे शरीर का खून पीकर
जश्न मना रही होती है
एक और
लाश के आने की।
और तब
इंसाफ़ की अंधी तराज़ू
के दो पलड़े
आशा और निराशा
की डगमगाते सतह पर
ज़िन्दगी को ढूँढने वाला
हर वो शख़्स
बे-ईमान नज़र आता है
जो-
ज़िन्दगी को मौत
मौत को ज़िन्दगी
कहता है।


पारो शैवलिनी
सृजन तिथि : 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें