कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

विश्वास (कविता)

मंज़िल इतनी भी दूर नहीं,
कि ख़ुद चल कर, उसे पा न सके,
हालात हमारे, इतने न विकट
कि अपनों को आज़मा न सके।
थोड़ी कोशिश बस बाकी है,
पहुँचेंगे ज़रूर किनारे हम,
जज़्बात पर, अपने रख क़ाबू,
ऊपर वाले के सहारे हम,
हमने देखे हैं कई पतझड़,
हर बार लगे हैं फूल नए,
तो चिंता कैसी, कैसी उलझन,
अवश्य लिखेंगे इतिहास नए।
हमने जो देखे थे सपने,
उनको साकार करेंगे हम,
कोई भी मुश्किल हो समक्ष,
हँस कर स्वीकार करेंगे हम।


सैयद इंतज़ार अहमद
सृजन तिथि : 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें