कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

समर्पण (कविता)

हम बुलाते रहे, वह भूलाते रहे।
इश्क़ में ख़ूब जलते जलाते रहे।।

वह हमें छोड़ करके चले ही गए,
हम उन्हें आज तक गुनगुनाते रहे।
लाख ताने सहे प्यार के वास्ते,
प्यार का आशियाना बसाते रहे।
हम बुलाते रहे...

हम तड़पते रहे रात भर के लिए,
वह किसी और को, जा लुटाते रहे।
है तपन से भरी ज़िंदगी अब मेरी,
जीत मिलती नहीं मात खाते रहे।
हम बुलाते रहे...

जो मिली थी सफलता मुझे इस ज़हाँ में
उसे इश्क में हम गँवाते रहे।
हमने उसके लिए सब को धोखा दिया,
अब वही भूल हमको रुलाते रहे।
हम बुलाते रहे...

हो गया दूर मैं ज़िंदगी से बहुत,
बात अपने ये मुझको बताते रहे।
ख़ुश रहोगे नहीं तुम भी मेरे बिना,
वो हमी थे जो तुमको हँसाते रहे।
हम बुलाते रहे...

है ना मुमकिन जीना अब तुम्हारे बिना,
भावना मन की कब से जताते रहे।
आज बन अजनबी देखते हैं हमें,
जो कभी बाँह में भर सुलाते रहे।
हम बुलाते रहे, वह भूलाते रहे।।


अभिषेक अजनबी
सृजन तिथि : 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें