कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

रोज़ जोश-ए-जुनूँ आए (ग़ज़ल) Editior's Choice

रोज़ जोश-ए-जुनूँ आए,
साथ बख़्त-ए-ज़बूँ आए।

अब भला क्या सुकूँ आए,
हाँ भला अब ये क्यूँ आए।

हाल क्या है कहे क्या अब,
जब कहीं अंदरूँ आए।

हाल फ़र्ज़ी नहीं है कुछ,
ये नज़र जूँ-का-तूँ आए।

'अर्श' जो थी तरब वो ही,
बन के दर्द-ए-दरूँ आए।


अमित राज श्रीवास्तव 'अर्श'
सृजन तिथि : 4 जनवरी, 2022
अरकान : फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ेलुन
तक़ती : 212 212 22
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें