कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

रात भर चराग़ों की लौ से वो मचलते हैं (ग़ज़ल) Editior's Choice

रात भर चराग़ों की लौ से वो मचलते हैं,
नींद क्यों नहीं आती करवटें बदलते हैं।

भीड़ क्यों जमा की है चाँद ने सितारों की,
जुगनुओं की बस्ती में चाँद सौ निकलते हैं।

आप तो छुआ करते ख़ार भी नज़ाकत से,
आजकल हुआ क्या है फूल को मसलते हैं।

जाइए जला दीजे दीप उस अँधेरे में,
तब तलक हवाओं की सम्त हम बदलते हैं।

इस ज़मीं को रहने दो थोड़ी खुरदरी सी भी,
बारिशों में बच्चों के पाँव भी फिसलते हैं।

होंट हो गए उनके जलके लाल शोलों से,
बात वो नहीं करते आग सी उगलते हैं।


मनजीत भोला
  • विषय :
सृजन तिथि : 12 जुलाई, 2022
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें