कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

प्रिये, अब तुम आ जाओ (गीत)

तड़प रहा हृदय ये मेरा,
सूरत तो दिखला जाओ।
साँझ हो रही मन मधुबन में,
प्रिये, अब तुम आ जाओ।
कितने दिवस यूँ चले गए,
कितनी रातें हैं बीत गईं।
हमारे इस प्रेमयुद्ध में,
माना तुम्हारी जीत हुई।
भूलकर पिछली बातों को,
दिल से गले लगा जाओ।
साँझ हो रही मन मधुबन में,
प्रिये, अब तुम आ जाओ।
हृदय में उठता तूफ़ान,
मिलने की चाह बढ़ाती है।
स्मृति में तेरी भोली सूरत,
आँखें अश्रु भर लाती है।
तुझ बिन है जीवन सुना,
दिल को कोई आराम नही।
एक काम, तुझे याद करना,
इसके सिवा कोई काम नही।
सिंचित कर निज प्रेम-नीर से,
पुनः बगिया महका जाओ।
साँझ हो रही मन मधुबन में,
प्रिये, अब तुम आ जाओ।


प्रवीन 'पथिक'
सृजन तिथि : जुलाई, 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें