कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

फूलों सा तुम खिलते रहना (कविता)

नेकी के रास्ते पर चलते रहना,
प्यार से आगे बढ़ते रहना।

सफलता रुक नहीं सकती,
मेहनत तुम करते रहना।

राहों में हैं काँटे बहुत सारे,
फूलों सा तुम खिलते रहना।

अमावास्या रूपी अंधकार में,
दीप सा तुम जलते रहना।

बुलंदियो को छुना हैं एक दिन,
उच्च शिखर पर चढ़ते रहना।

आलोचक जब करें आलोचना,
मूक बनकर तुम सुनते रहना।

चुनौतीयाँ बहुत हैं जीवन में,
"पंवार" उनसे तुम लड़ते रहना।


समुन्द्र सिंह पंवार
सृजन तिथि : 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें