कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

पंख को आसमाँ चाहिए (ग़ज़ल)

पंख को आसमाँ चाहिए,
ज़िंदगी को जहाँ चाहिए।

धूप निकली हुई है यहाँ,
औ उसे आस्ताँ चाहिए।

दीप जलने लगे हैं अगर,
पर्व को है अमाँ चाहिए।

आसमाँ छत हुई है जहाँ,
उस बशर को मकाँ चाहिए।

रास्ते में अकेले चले,
और अब कारवाँ चाहिए।


अविनाश ब्यौहार
  • विषय :
सृजन तिथि : 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें