कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

जीवन तो इक अफ़साना है (ग़ज़ल)

जीवन तो इक अफ़साना है,
मानव का फ़र्ज़ निभाना है।

चाकू, कट्टा और कटारी,
इन सबका पोषक थाना है।

बूढ़ों का ज्ञान लगा अद्भुत,
क्या वो भी एक ज़माना है।

घर में जिसने विद्रोह किया,
उसका कुछ ठौर ठिकाना है।

दाने-दाने को तरसा जो,
भूख वही तो पहचाना है।


अविनाश ब्यौहार
सृजन तिथि : 15 नवम्बर, 2021
अरकान : फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
तक़ती : 22 22 22 22
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें