कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

इश्क़ के रस्तों पर शे'र कहेंगे (ग़ज़ल)

इश्क़ के रस्तों पर शे'र कहेंगे,
आज हसीनों पर शे'र कहेंगे।

ज़िक्र क़यामत का होगा तो हम,
उसकी अदाओं पर शे'र कहेंगे।

ज़िक्र हुआ गर मय-कदे का तो फिर,
उसकी आँखों पर शे'र कहेंगे।

गर होगा ज़िक्र मुहब्बत का तो,
उसकी वफ़ाओं पर शे'र कहेंगे।

ज़िक्र शब-ए-मय का होगा तो हम,
हसीन चेहरों पर शे'र कहेंगे।

ज़िक्र अगर कलियों का होगा तो,
उसके होंठों पर शे'र कहेंगे।

ज़िक्र हुआ गर शीशमहल का तो,
उसकी बाहों पर शे'र कहेंगे।

ज़िक्र किया ख़ुशबू का किसी ने तो,
उसकी साँसों पर शे'र कहेंगे।

गर ज़िक्र हुआ काली रात का तो,
उसके गेसुओं पर शे'र कहेंगे।


रोहित गुस्ताख़
सृजन तिथि : 25 जुलाई, 2021
अरकान: फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ा
तक़ती: 22 22 22 22 2
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें