कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

हमीं से दूर जाना चाहता है (ग़ज़ल) Editior's Choice

हमीं से दूर जाना चाहता है,
तभी वो पास आना चाहता है।

नई दुनिया बनाई है वहाँ पर,
वही मुझको दिखाना चाहता है।

मुझे मालूम है वो पास आकर,
हँसाकर फिर रुलाना चाहता है।

चुराता आज है नज़रों से नज़रें,
किसी सच को छुपाना चाहता है।

जफ़ा की सब हदों को तोड़कर भी,
वफ़ादारी निभाना चाहता है।

परिंदा रह नहीं सकता अकेले,
नया वो भी ठिकाना चाहता है।


प्रशान्त 'अरहत'
सृजन तिथि : जून, 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें