कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

एकता की शक्ति (कविता)

मैं हूँ साथ खड़ा तेरे,
फिर डरने की क्या बात,
हौसला उम्मीद से कर लेंगे,
ये नौका भी पार।
तू बन तो सही हिम्मत मेरी,
कर थोड़ा विश्वास ज़रा,
दृढ़ता के छोर से रच दे,
अब तू इतिहास बड़ा।
घबराना नहीं मेरे यार,
जब तक हूँ मैं संग तुम्हारे,
पहुँच ही जाएँगे मंज़िल तक,
गर हौसले हैं अगर बुलंद हमारे।
मंज़र बदलेगी तेरी कहानी,
जिससे रहेगा न कोई सानी,
तेरी हर चुनौतियाँ अब,
लोहा लेकर तैयार हैं,
गर मज़बूत है इरादे तेरे 
तो तू शस्त्र और प्रहार है।
विषमता को आँको ना तुम,
ये तो बस जी जंजाल है,
कमज़ोर नहीं तू बलिष्ट है,
मेरे यारा ये तेरी पहचान है।
चल हो जाए एक और एक ग्यारह
अब तेरे संग ज़िंदगी गुलज़ार है।


सुनील माहेश्वरी
सृजन तिथि : 27 जनवरी, 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें