कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

आह जो दिल से निकाली जाएगी (ग़ज़ल) Editior's Choice

आह जो दिल से निकाली जाएगी,
क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी।

इस नज़ाकत पर ये शमशीर-ए-जफ़ा,
आप से क्यूँकर सँभाली जाएगी।

क्या ग़म-ए-दुनिया का डर मुझ रिंद को,
और इक बोतल चढ़ा ली जाएगी।

शैख़ की दावत में मय का काम क्या,
एहतियातन कुछ मँगा ली जाएगी।

याद-ए-अबरू में है 'अकबर' महव यूँ,
कब तिरी ये कज-ख़याली जाएगी।


अकबर इलाहाबादी
  • विषय :


यूट्यूब वीडियो

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें