कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन




आलेख

साइकिल - पारो शैवलिनी
  सृजन तिथि : 3 जून, 2022
साइकिल चलाना व्यायाम करने और परिवहन पर पैसे बचाने का एक शानदार तरीक़ा है। साइकिल चलाना बच्चों और वयस्कों समेत महिल
सौंदर्य - रतन कुमार अगरवाला
  सृजन तिथि : 22 फ़रवरी, 2022
आज सहसा ही मन में ख़्याल आया कि विषय “सौंदर्य” पर कुछ जानकारी प्रद लिखने की कोशिश करूँ। हिन्दी व्याकरण के अनुसार “स
नारी की समाज में नारायणी भूमिका - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 16 सितम्बर, 2021
सृष्टि निर्माण और उसके अबाध संचालन के केंद्र में नारी है, ईश्वर के बाद सांसारिक धुरी नारी ही है। नारी सिर्फ़ सृजक भर
संत रविदास जी - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 13 फ़रवरी, 2022
माघ मास की पूर्णिमा को रविवार के दिन जन्में प्रसिद्ध प्रमुख संतों में एक संत रविदास जी का जन्म काल विभिन्न विद्वान
ख़ामोशियों की आवाज़ - सुषमा दीक्षित शुक्ला
  सृजन तिथि : 2 अप्रैल, 2019
सच तो यह है कि ख़ामोशियाँ भी बोलती हैं, बस उनकी आवाज़ सुनने वाले कान होने चाहिए। ख़ामोशियों की आवाज़ कानों के बजाय आत्मा
हमारा गणतंत्र - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 23 जनवरी, 2022
26 जनवरी, 1930 से 15 अगस्त, 1947 को आज़ादी प्राप्त होने तक 26 जनवरी को ही स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता था। चूंकि 26 जनवरी, 1930 को भारत
लोक आस्था का पर्व छठ - डॉ॰ ममता बनर्जी 'मंजरी'
  सृजन तिथि : नवम्बर, 2020
"छठी मैया आइतन आज..." छठ पर्व के आगमन होते ही यह गीत भारतवर्ष के कई राज्यों में विशेष रूप से बिहार, उत्तरप्रदेश और झार
युवा दिवस और स्वामी विवेकानंद जी का संदेश - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 12 जनवरी, 2022
महज़ 39 साल की जीवन यात्रा में ही स्वामी विवेकानंद जी न केवल भारत के आध्यात्मिक गुरू बने, बल्कि दुनिया भर को अध्यात्म
विश्व हिंदी दिवस - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 10 जनवरी, 2022
हिंदी की लोकप्रियता को लेकर समूचे विश्व में 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। हिंदी प्रेमियों के लिए इस दि
समानता का अधिकार - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 29 नवम्बर, 2021
सुनने कहने में कितना मीठा, प्यारा लगता है "समानता का अधिकार"। पर जरा धरातल पर आकर देखिए। हर क्षेत्र में सिर्फ़ विडंब
पर्वों का संदेश - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 12 नवम्बर, 2021
छठ पर्व के साथ ही त्योहारों की शृंखला करवा चौथ, धनतेरस, दीवाली, गोवर्धन पूजा, भैया दूज, चित्रगुप्त पूजन, लक्ष्मी पूज
ख़ुद को ही सर्वश्रेष्ठ न समझें - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 13 अक्टूबर, 2021
श्रेष्ठ या सर्वश्रेष्ठ होना हमारे आपके जबरन ख़ुद को घोषित करने की ज़िद कर लेने भर से नहीं हो जाता। परंतु ख़ुद को श्रेष
सीखें सिखाएँ - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 25 अगस्त, 2021
ये हमारा सौभाग्य और ईश्वर की अनुकंपा ही है कि हमें मानव जीवन मिला, तो ऐसे में हम सभी की ये ज़िम्मेदारी है कि हम इस चार
हिन्दी भारतीयों की चेतना है - सुषमा दीक्षित शुक्ला
  सृजन तिथि : 13 सितम्बर, 2019
हिन्दी भारत की आत्मा है, हमारी पहचान है, हिन्दी को उपेक्षित कर शिक्षा का सर्वांगीण विकास अधूरा है। हिन्दी को मातृ भ
शिक्षक का सच्चा स्वरूप - सुषमा दीक्षित शुक्ला
  सृजन तिथि : 3 सितम्बर, 2019
चरित्रवान शिक्षक बनने के लिए शिक्षक को अपने सच्चे स्वरूप का ज्ञान होना चाहिए। शिक्षक को चाहिए कि वह स्वयं के स्वर
कान्हा - सुषमा दीक्षित शुक्ला
  सृजन तिथि : 5 अगस्त, 2020
कान्हा कोई नाम नहीं, कोई व्यक्ति नहीं, कान्हा तो साक्षात परबृह्म हैं अजन्मा हैं अमर हैं अजर हैं। परन्तु वह जसुदा मइ
रक्षा बंधन - रतन कुमार अगरवाला
  सृजन तिथि : 22 अगस्त, 2021
कहने को तो रक्षा बंधन भाई बहन के स्नेह का त्यौहार है पर अध्यात्म रूप से देखें तो इस त्यौहार के दिन हम परमात्मा से उम
अनुशासन से हो सोना कुंदन - सुषमा दीक्षित शुक्ला
  सृजन तिथि : 25 मार्च, 2020
अपने आपको मना कर पाने की सामर्थ्य के साथ ही गरिमा की समझ पैदा होती है यही अनुशासन की सीढ़ी है, यही सीढ़ी बनाती है सोने क
भ्रष्टाचार - प्रवल राणा 'प्रवल'
  सृजन तिथि : 2 जून, 2021
देश के सामने भ्रष्टाचार बहुत बड़ी समस्या है, भ्रष्टाचार के निषेध के लिए क़ानून है, लोगों को शिकायत भी करनी चाहिए। किन
एक वृक्ष की पीड़ा - संजय राजभर 'समित'
  सृजन तिथि : मई, 2021
मैं वृक्ष हूँ। प्रकृति का फेफड़ा हूँ, मैं निःसंदेह निःस्वार्थ भाव से प्रकृति के संचालन में अनवरत अथक संघर्ष करता ह
गुरु - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : 24 जुलाई, 2021
गुरु अपने सभी शागिर्दों पर रहमतें बरसाता है अगरचे ज़ुबाँ से बरसे या मास्टरजी के दिव्य डंडे से। जिसने ये ईल्म, नेमते
आम आदमी और कोरोना - प्रवीन 'पथिक'
  सृजन तिथि : मई, 2020
यह जीवन जितना दुर्लभ है उतना ही जीना दुष्कर। हमारा देश विगत दो सालों से जिस विषम परिस्थितियों से गुज़र रहा है, उसका
सतत विकास में कहाँ हैं हमारा समाज? - परमजीत कुमार चौधरी 'सोनू'
  सृजन तिथि : अप्रैल, 2021
हमारा देश और समाज निरंतर विकास के पथ पर अग्रसर है और हमने काफी सारे उपलब्धियां भी हासिल की है। परंतु क्या हमारा समा
संघर्ष - सलिल सरोज
  सृजन तिथि : 2020
जीवन की शुरुआत के बारे में कोई निर्णायक सबूत नहीं है। हमने अनुमान और शोध किए हैं। हम सच्चाई के बहुत क़रीब आ गए हैं, या
कोरोना योद्धाओं को सलाम - संस्कृती शाबा गावकर
  सृजन तिथि : सितम्बर, 2020
कोरोना वैश्विक महामारी ने अब तक पूरी दुनिया को अपने चपेट में ले लिया है। दुनिया भर में इस वाइरस की वजह से संक्रमण तथ
संघर्ष सफलता की कुंजी है - मधुस्मिता सेनापति
  सृजन तिथि : 2020
संघर्ष एक ऐसा अनुभव है, जो जीवन में आने वाली हर एक पड़ाव को पार करने के लिए एक मूल्यवान अस्त्र के तरह हमारे सामने आ खड
शिवशरण सिंह चौहान 'अंशुमाली' - विमल कुमार 'प्रभाकर'
  सृजन तिथि : 18 अप्रैल, 2021
हिन्दी साहित्य के सुविख्यात वरिष्ठ कवि, लेखक, आलोचक, सुधी सम्पादक शिवशरण सिंह चौहान 'अंशुमाली' समकालीन साहित्य में

Load More

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें