कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

पारो शैवलिनी

प्रह्लाद प्रसाद

10 जनवरी, 1958

बारे में


पारो शैवलिनी जी का जन्म पश्चिम बंगाल के पश्चिम वर्धमान जिले के चित्तरंजन रेलनगरी में 10 जनवरी, 1958 को हुआ। वहीं उनके पिताश्री एक रेलकर्मी थे जिनका 1971 में देहावसान हो गया। तदुपरांत, पारो शैवलिनी जी का मन वहाँ से उचट गया और वे अपने पैतृक निवास जमालपुर चले आए।
उनके अंदर लेखन का बीज चित्तरंजन में ही पड़ चुका था। अतएव, धीरे-धीरे यह बीज ना सिर्फ़ पनपने लगा अपितु फैलने भी लगा। कहा जा सकता है कि सत्तर से अस्सी के दशक में उनके अंदर का लेखक कुलाचें मारने लगा और अपनी सर्वाधिक रचनाएँ इसी काल में उन्होंने लिखी और विभिन्न लघु पत्र-पत्रिका में ख़ूब छपा भी। इसी दौर में आकाशवाणी के भागलपुर केंद्र से सस्वर उनकी कई रचनाएँ प्रसारित भी हुई।


गीत (2)



ग़ज़ल (1)



आलेख (1)



कविता (6)



शेर (1)



            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें