Covid19 / किसान / देशभक्ति / सुविचार / बेटी / प्रेरक / माँ / जानकारी / ज्ञान / नारी / भक्ति / दोस्ती / इश्क़ / ज़िंदगी / ग़म

अंधविश्वास अखबार अधिकार अपराध अनमोल अब्दुल कलाम अभिलाषा अरमान अवसाद असफलता अहंकार


आँख आँसू आईना आकाश आत्मनिर्भर आत्महत्या आदत आदमी आधुनिकता आंनद आयु आवाज़


इंसान इंसानियत इश्क़


ईद ईश्वर


उद्देश्य उम्मीद उम्र


"ऊ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



एकता


"ऐ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ओ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"औ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



क़ब्र कमजोरी कर्म कलम कवि काँटा कामना कामयाब कारगिल विजय दिवस किताब किसान किस्मत कुदरत कृष्ण जन्माष्टमी


ख़ामोशी खुशबू खुशी खेल ख़्याल ख़्वाब


ग़म गरीब गाँधी जयंती गाँव गुरु पूर्णिमा गैर


घर


चन्द्रशेखर आजाद चाँद चाय चाहत चिंता चुनाव चुनौती चूड़ियाँ चेहरा चैन


छठ पर्व छाँव


जनता जमाना जमीन जल जवानी जान जानकारी ज़िंदगी जीवन


"झ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ट" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ठ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



डर डोली


"ढ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



तन्हा तारा तिरंगा तीज तीर्थ तुलसीदास


"थ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



दर्द दान दिल दिवाली दीया दीवाना दुःख दुर्घटना दुश्मन दुश्मनी दुष्कर्म दूर देर देश देशभक्ति दोस्ती दौर


धन धनतेरस धरती धूप धैर्य


नज़र नफ़रत नव वर्ष नवरात्रि नाग पंचमी नारी नास्तिक निर्णय निंद न्याय


पक्षी पत्थर परछाई परवाह परिवर्तन परिवार पर्यावरण पशु पहचान पास पिता पितृ पक्ष पूजा पूर्णिमा पृथ्वी पेड़ पौधे प्यार प्रकृति प्रतीक्षा प्रार्थना प्रिय प्रेम प्रेमचंद प्रेरक


फरिश्ता फूल फौजी


बचपन बच्चे बहन बाघ बात बाबा साहब बारिश बुद्ध पूर्णिमा बूढ़ी बेटी बेरोजगारी बेवफ़ाई


भक्ति भगवान भगवान कृष्ण भगवान गणेश भगवान बुद्ध भगवान राम भगवान विश्वकर्मा भगवान शिव भगवान हनुमान भाई भाग्य भारत भावना भूख भूल भोजन भोर भ्रूण हत्या


मंज़िल मजदूर मजाक मधुशाला मन मर्यादा मसीहा महत्व महबूबा महान माँ माँ काली माँ दुर्गा माता पिता मानव मानवता मालिक मिट्टी मुलाकात मुस्कान मुसाफिर मृत्यु मोहब्बत मौत मौन मौसम


यात्रा याद युवा योग योगदान


रंग रक्षा बंधन राज राजनीति राजा राधा कृष्ण रावण राष्ट्र रिश्ता रोटी


लड़की लफ़्ज़ लम्हा लहू लेखक लॉकडाउन लोग


वक़्त वतन वफ़ा विजय विदा विश्वास वृक्ष वृद्ध व्यथा व्यर्थ व्यवहार


शक्ति शब्द शरद पूर्णिमा शरद ऋतु शराब शहीद शांति शान शिक्षक शिक्षा शिष्टाचार शोक श्रद्धांजलि श्रम श्राद्ध श्रृंगार


संकल्प संघर्ष संस्कार संस्कृत भाषा संस्कृति सत्य सपना सफर सफलता समय समस्या समाज समाधान सरकार सलाम सवेरा साजन साथ सादगी सावन साहस साहित्य सिनेमा सिपाही सीख सुख सुख दुःख सुखी सुरक्षा सुविचार सूरज सृष्टि सेवा सैनिक सोशल मीडिया सौतेला सौदा स्त्री स्वच्छता स्वतंत्रता स्वतंत्रता दिवस स्वदेशी स्वस्थ स्वास्थ्य


हत्या हमसफर हाथी हिंदी भाषा हृदय हैवानियत

क्ष

"क्ष" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।


त्र

"त्र" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।


ज्ञ

ज्ञान
क्ष त्र ज्ञ

संस्थापक के बारे में : परिचय

तपन कुमार

तपन कुमार

तपन कुमार की प्रारम्भिक शिक्षा बिहार के सीतामढ़ी जिला के चंदौली गाँव से शुरुआत हुई उसके बाद इन्होंने West Bangal University Of Technology से Nautical Science में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। उसके बाद नौकरी करने के वजाए ख़ुद की व्यवसाय करने में रूचि रखी और एक युवा Entreprenour के रूप में व्यवसाय कर रहे है

तपन कुमार एक ऐसे साहित्यक प्रेमी है जो साहित्य में लिखने से ज़्यादा साहित्य कों पढ़ने में रूचि रखते है बचपन से ही प्रख्यात और प्रमुख कवियों की रचनाओं को पढ़ते हुए बड़े हुए और यही वजह रहा की इन्हें बचपन से ही रचनाकारों के प्रति काफी लगाव रहा और उनके लिए कुछ करने की ललक इनके मन में रही। और अब ये साहित्य रचना को लेकर काफ़ी बड़े स्तर पर रचनाकारों को उनकी प्रसिद्धि और पहचान के लिए दिन रात काम कर रहे हैं। साहित्य रचना परिवार को अपने छोटे भाई "अमित राज श्रीवास्तव" के साथ मिलकर इसे साहित्यिक की सबसे बड़े पटल के रूप में ले जाने की कोशिश में दिन रात लगे हुए है।

तपन कुमार

अमित राज श्रीवास्तव

अमित राज श्रीवास्तव का जन्म बिहार के सीतामढ़ी जिले के बेलसंड प्रखंड के चंदौली गाँव में हुआ और इन्होंने अपनी सभी स्कूली शिक्षा बिहार से पूरी करने के बाद ख़ुद की एक IT Company "OND Tecshol" की शुरुआत की जिसके ये संस्थापक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी भी हैं।

इसके बाद इन्होंने साहित्य रचना जैसी बड़ी साहित्यक वेबसाइट बनाने की सोची और आज साहित्य रचना की इतनी बड़ी बेबसाइट हमसब के सामने है।

बचपन से ही इनकी रुचि साहित्य पढ़ना और गाने सुनने में बहुत ही ज़्यादा है।
इन्हें साहित्य पढ़ने के साथ साथ लिखने में भी काफ़ी रुचि है और ये भी थोड़ा बहुत लिखने की कोशिश करते रहें है। वे और उनके बड़े भाई तपन कुमार दोनों साथ में मिलकर साहित्य रचना को विस्तार करने की पूरी कोशिश कर रहें है।

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें